Aaj Main



पलकों के साए में तुझे छुपा कर रख लूँ आज मैं
तेरे साथ बीते हर पल को कुछ खास बना लूँ आज मैं
उम्मीद है की तेरे साथ रहेगा ज़िन्दगी भर ऐ दोस्त
हर गम को ख़ुशी से तेरे साथ बांटू आज मैं
तेरी बातों को दिल की किताब में लिखने का इंतज़ार है आज मुझे
सब कुछ भुला कर बस तुझे सुनना चाहता हूँ आज मैं
न जाने कब वोह पल आयेंगे जब तू मुझे भी प्यार भरी नज़रों से देखेगी
तुझसे मिलने की तमन्ना में एक और दिन जी लूँगा मैं

waiting and will always wait for you to come back in my life…
always and yours only :)


Please follow and like us:


« « Kuch Pal | विश्वास » »

1 Comment

  • Intejaar to mujhe bhi hai tere aane ka
    tujh sa pyar mujhe karega bhi kaun
    tu jo meri har baat ko suna karta tha
    najayaj bhi ho, to bhi sweekar kiya karta tha.
    meri har khawish ko pura karne ke liye
    jee jaan se har koshish kiya karta tha
    tujh sa pyar na de paya koi mujhe tere jaane ke baad
    tu hi tha jo meri har ankahi baat ko bhi samjha karta tha…
    Intejaar to mujhe bhi hai tere aane ka
    tujh sa pyar mujhe karega bhi kaun

Leave a comment

TWITTER
FACEBOOK
GOOGLE
http://www.anuragbhateja.com/about-me/poems-by-me/aaj-main">
EMAIL
RSS