विश्वास



विश्वास है मुझे तुमपर अपने से ज्यादा…
खुश रखूँगा तुम्हें अपने से ज्यादा…
ख़ामोशी से सुनूंगा तुम्हारी हर बात…
कम न होंगे मेरे दिल से कभी भी यह जज़्बात…
प्यार है तुमसे तो खुल कर कहता भी हूँ…… See More
तुम्हारे सामने बोलने से डरता भी हूँ…
विश्वास है मुझे की समझोगी यह बात तुम…
प्यार मिलेगा तुमसे हद से ज्यादा… :)


Please follow and like us:


« « Aaj Main | एक शब्द » »

1 Comment

  • Use kyun nahin dikhta yeh vishwas tumhara
    kyun andekha kar rahi hai vo pyar tumhara
    jaroor koi badi majboori rahi ho gayi us ki
    nahin to apna hi leti ab tak vo dil tumhara,
    dua karti huun khuda se main aaj
    ki vo de tumhare pyar ko swakriti
    aur jod de us se kabhi na tutne wala rishta tumhara…

Leave a comment

TWITTER
FACEBOOK
GOOGLE
http://www.anuragbhateja.com/about-me/poems-by-me/trust-vishwas">
EMAIL
RSS